कीटो डाइट: प्रकार, फायदे और दुष्प्रभाव – Keto Diet: Types, Benefits And Side Effects In Hindi

कीटो आहार

कीटो डाइट क्या है – What Is Keto Diet In Hindi

What is the keto diet?

कीटो डाइट या कीटोजेनिक आहार एक उच्च वसा और कम कार्बोहाइड्रेट वाली डाइट है, जो हाल के वर्षों में लोकप्रियता प्राप्त कर रही है। यह डाइट कार्बोहाइड्रेट को कम करने और वसा का सेवन बढ़ाने पर आधारित है। इससे शरीर कीटोसिस की स्थिति में चला जाता है, जिसमें यह ग्लूकोज के बजाय ऊर्जा के लिए वसा को जलाता है। कीटो डाइट से आपको वजन घटाने सहित कई अन्य स्वास्थ्य संबंधी फायदे हो सकते हैं।

सबसे आम फैड डाइट में से एक कीटो डाइट का व्यापक रूप से कई उद्देश्यों के लिए उपयोग किया जाता है। कीटो डाइट के कई संभावित स्वास्थ्य संबंधी फायदे हैं। इस डाइट का उपयोग मिर्गी वाले बच्चों को ठीक करने के लिए भी किया जा सकता है। इस ब्लॉग पोस्ट में हम कीटो डाइट के प्रकार, फायदे और दुष्प्रभावों सहित कई जरूरी विषयों पर चर्चा करेंगे।

कीटो डाइट के प्रकार – Types Of Keto Diet In Hindi

जब कीटो डाइट की बात आती है, तो आप इसके कुछ अलग-अलग प्रकारों को चुन सकते हैं। कीटो डाइट का सबसे लोकप्रिय प्रकार स्टैंडर्ड कीटोजेनिक डाइट (एसकेडी) है, जिस पर ज्यादातर लोग विचार कर सकते हैंः

  • स्टैंडर्ड कीटोजेनिक डाइट (एसकेडी): एसकेडी बहुत कम कार्ब और उच्च वसा वाली डाइट है, जिसमें बहुत कम कार्ब खाना और उन्हें वसा के साथ बदलना शामिल है। इस प्रकार की डाइट को वजन घटाने, रक्त शर्करा नियंत्रण और अन्य स्वास्थ्य स्थितियों के लिए प्रभावी दिखाया गया है। साथ ही कीटो डाइट में 10 प्रतिशत कार्बोहाइड्रेट, 20 प्रतिशत प्रोटीन और 70 प्रतिशत फैट होता है।
  • साइक्लिकल कीटोजेनिक डाइट (सीकेडी): कीटो डाइट का एक अन्य प्रकार साइक्लिकल कीटोजेनिक डाइट (सीकेडी) है। यह डाइट स्टैंडर्ड कीटोजेनिक डाइट से मिलती-जुलती है, लेकिन इसमें उच्च कार्ब सेवन की अवधि शामिल है। इस प्रकार का डाइट उन लोगों के लिए फायदेमंद हो सकती है, जो मांसपेशियां बनाने की कोशिश कर रहे हैं। इससे उन लोगों को भी फायदे प्राप्त हो सकते हैं, जिन्हें व्यायाम प्रदर्शन के लिए ज्यादा कार्ब्स की जरूरत है।
  • टारगेटेड कीटोजेनिक डाइट (टीकेडी): टारगेटेड कीटोजेनिक डाइट (टीकेडी) को एथलीटों या उन लोगों के लिए डिज़ाइन किया गया है, जो अपने कसरत प्रदर्शन को अनुकूलित करने की कोशिश कर रहे हैं। इस प्रकार की डाइट में ऊर्जा स्तर और धीरज को बेहतर बनाने के लिए आपके वर्कआउट के आसपास ज्यादा कार्ब्स खाना शामिल है।
  • हाई प्रोटीन कीटोजेनिक डाइट: यह डाइट लगभग एसकेडी की तरह ही होती है, लेकिन इसमें प्रोटीन की मात्रा ज्यादा शामिल है। इस डाइट में 60 प्रतिशत फैट, 5 प्रतिशत कार्बोहाइड्रेट और 35 प्रतिशत प्रोटीन होता है।

कीटो डाइट के फायदे – Benefits Of Keto Diet In Hindi

इस डाइट के उपयोग से आपको कई फायदे प्राप्त हो सकते हैं। ऐसे ही कुछ फायदों में निम्नलिखित शामिल हैः

वजन घटाना

कीटो डाइट आपके शरीर को कीटोसिस की स्थिति में रखकर वजन घटाने में आपकी मदद कर सकती है। कीटोसिस की स्थिति एक मेटाबोलिक अवस्था है, जिसमें आपका शरीर कार्बोहाइड्रेट के बजाय ऊर्जा के लिए वसा जलाता है। कार्बोहाइड्रेट की अनुपस्थिति में हमारा शरीर वसा जलाना शुरू कर देता है। यह स्थिति आगे चलकर कीटोन्स का कारण बनती है और इसलिए इसे कीटोसिस कहते हैं। इससे वजन कम होता है, क्योंकि हमारी ज्यादातर ऊर्जा वसा से आती है। हम जितनी ज्यादा वसा जलाते हैं, उतना ही ज्यादा वजन कम होता है।

मांसपेशियां बनाने में मदद

कीटो डाइट आपके शरीर को ग्लूकोज का वैकल्पिक ईंधन स्रोत प्रदान करके मांसपेशियों के निर्माण में मदद कर सकती है। जब आपका शरीर कीटोसिस की स्थिति में होता है, तो यह मांसपेशियों को बढ़ाने के लिए प्रोटीन का उपयोग करने में ज्यादा कुशल होता है।

डायबिटीज का प्रबंधन

कीटो डाइट आपके रक्त शर्करा स्तर को स्थिर रखकर डायबिटीज प्रबंधन में आपकी मदद कर सकती है। स्थिर रक्त शर्करा स्तर से आपको रक्त शर्करा में स्पाइक्स के अनुभव की संभावना कम होती है, जिससे डायबिटीज की जटिलताएं हो सकती हैं।

मिर्गी के लिए प्रभावी

खासतौर से बच्चों में मिर्गी के लिए कीटो डाइट को एक प्रभावी उपचार के रूप में दिखाया गया है। यह डाइट शरीर में ग्लूकोज के उत्पादन को कम करके काम करती है, जो दौरे के लिए मुख्य ईंधन स्रोत है। कीटोन बॉडी कुछ सेरेब्रल मेटाबॉलिक पाथवे में योगदान करती हैं, जिनमें न्यूरोट्रांसमीटर ग्लूटामेट और गामा एमिनो ब्यूटिरिक एसिड गाबा शामिल हैं। साथ ही ब्रेन एडेनोसिन ट्राइफॉस्फेट एटीपी कंसंट्रेशन, सेरेब्रल एनर्जी रिजर्व और गाबा रिसेप्टर साइट्स को बढ़ाते हैं। यह सभी डाइट के निरोधात्मक प्रभाव में योगदान करने के लिए माने जाते हैं।

कीटो डाइट के चरण – Phases Of Keto Diet In Hindi

आमतौर पर कीटो डाइट को तीन चरणों में बांटा जाता है, जैसेः

  • कीटो डाइट का प्रवेश चरण सबसे ज्यादा प्रतिबंधात्मक है और दो हफ्ते तक रहता है। इस दौरान आप प्रतिदिन सिर्फ 20 से 50 ग्राम कार्बोहाइड्रेट का सेवन ही करते हैं। यह आपके शरीर को कीटोसिस की स्थिति में जाने का कारण बनता है। इसमें यह ग्लूकोज के बजाय ईंधन के लिए वसा को जलाना शुरू कर देता है।
  • प्रवेश चरण में दो हफ्ते के बाद आप रखरखाव चरण के दौरान धीरे-धीरे कार्बोहाइड्रेट को अपने डाइट को दोबारा शुर कर सकते हैं। इस चरण का लक्ष्य आपके व्यक्तिगत कार्ब सहिष्णुता स्तर का पता लगाना है। इसका मतलब है कि आप कितने कार्ब्स खा सकते हैं।
  • एक बार जब आप अपना कार्ब सहिष्णुता स्तर पा लेते हैं, तो आप धीरे-धीरे अपने कार्ब्स को तब तक बढ़ाना शुरू कर सकते हैं, जब तक आप अपने कार्बोहाइड्रेट सेवन के मनचाहे स्तर तक नहीं पहुंच जाते। कुछ लोगों के लिए यह प्रति दिन 100 ग्राम जितना ज्यादा और दूसरों के लिए प्रति दिन 30 ग्राम से कम हो सकता है।

कीटो डाइट में क्या खाएं – What To Eat In Keto Diet In Hindi

कीटोजेनिक डाइट में खाने के लिए खाद्य पदार्थों में शामिल हैं:

  • कम कार्ब वाली सब्जियां: लगभग सभी हरी पत्तेदार सब्जियां कार्ब्स में कम होते हैं, जैसे ड्रमस्टिक्स, शतावरी, ब्रोकली, फूलगोभी, पालक, केल, फूलगोभी और ब्रसेल्स स्प्राउट्स आदि। अन्य कम कार्ब्स वाली सब्जियों में बेल मिर्च, भिंडी और बैंगन आदि शामिल हैं।
  • कम कार्ब वाले रूट्स और कंद: मूली, चुकंदर और गाजर में कार्ब्स की मात्रा कम होती है। इन्हें कीटो डाइट में आसानी से शामिल किया जा सकता है।
  • कम कार्ब वाले फल: फलों में आमतौर पर कार्ब्स होते हैं, लेकिन कम कार्ब के लिए भी कुछ विकल्प उपलब्ध हैं। इनमें एवोकाडो, आंवला, अमरूद, स्टार फ्रूट और स्ट्रॉबेरी आदि शामिल हैं।
  • प्रोटीन स्रोत: लगभग सभी प्रोटीन स्रोत कार्ब्स में कम और प्रोटीन में उच्च होते हैं। इनमें मछली, लाल मांस, सफेद मांस, पनीर, टोफू और सोयाबीन आदि शामिल है।

कीटो डाइट में क्या नहीं खाएं – What Not To Eat In Keto Diet In Hindi

कीटो डाइट का पालन करते समय आपको अपने द्वारा खाए जाने वाले खाद्य पदार्थों के बारे में बहुत सावधान रहने की जरूरत होती है। कुछ ऐसे खाद्य समूह हैं, जिनसे आपको पूरी तरह बचना चाहिए। ऐसा इसलिए है, क्योंकि यह आपको कीटोसिस से बाहर निकालते हैं और आपके वजन घटाने को रोक सकते हैं।

What Not To Eat In Keto Dietइस प्रकार की डाइट से बचने के लिए मुख्य खाद्य समूह इस प्रकार हैं:

  • अनाज- इसमें सभी प्रकार के गेहूं, चावल, ओट्स और जौ आदि शामिल हैं। आपको अनाज से बने किसी प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ से भी बचना चाहिए। इनमें ब्रेड, पास्ता, अनाज और पके हुए सामान शामिल हो सकते हैं।
  • चीनी- इसमें सभी प्रकार की चीनी, शहद, एगेव सिरप आदि शामिल हैं। आपको ऐसे किसी भी खाद्य पदार्थ या पेय से भी बचना चाहिए, जो चीनी में उच्च हो। उहादरण के लिए, कैंडी, डेसर्ट, फलों के रस और मीठा सोडा।
  • फलियां- इसमें काली बीन्स, किडनी बीन्स जैसी सभी बीन्स और दालें, छोले या मटर और मूंगफली शामिल हैं। आपको फलियों (जैसे सोया उत्पाद) से बने किसी भी प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ से बचना चाहिए। ऐसा इसलिए हैं, क्योंकि यह कार्ब्स में उच्च हो ते हैं और पचाने में मुश्किल हो सकते हैं।

कीटो डाइट के दुष्प्रभाव – Side Effects Of Keto Diet In Hindi

अगर आप कीटो डाइट शुरू करने के बारे में सोच रहे हैं, तो आपको इसके संभावित दुष्प्रभावों के बारे में पता होना जरूरी है। कीटो डाइट के कुछ संभावित दुष्प्रभाव नीचे दिए गए हैं।

  • कीटो फ्लू: कीटो डाइट का सबसे आम दुष्प्रभाव कीटो फ्लू है, जो यह एक अस्थायी स्थिति है। यह स्थिति तब हो सकती है, जब आपका शरीर ईंधन के लिए वसा जलाने में समायोजित हो जाता है। कीटो फ्लू के लक्षणों में थकान, सिरदर्द, मतली और सोने में कठिनाई शामिल है। यह लक्षण आमतौर पर कुछ दिनों या एक हफ्ते के अंदर ठीक हो जाते हैं।
  • कब्ज: कीटो डाइट का एक अन्य संभावित दुष्प्रभाव कब्ज है। ऐसा खाने में फाइबर की मात्रा कम होने के कारण होता है। कब्ज को कम करने के लिए खूब पानी पिएं और पत्तेदार साग और सब्जियों जैसे उच्च फाइबर वाले खाद्य पदार्थों का सेवन करें।
  • कीटोएसिडोसिस: कीटोएसिडोसिस एक दुर्लभ और गंभीर स्थिति है, जो कीटोजेनिक डाइट के कारण हो सकती है। यह तब होता है, जब आपका शरीर बहुत ज्यादा कीटोन पैदा करता है और पर्याप्त इंसुलिन नहीं बनाता है। इससे आपके खून में एसिड बन सकता है, जो गंभीर समस्या का कारण बनता है। कीटोएसिडोसिस के लक्षणों में मतली, उल्टी, पेट में दर्द, सांस की तकलीफ, फलों की महक वाली सांस और भ्रम शामिल हैं। अगर आप इनमें से किसी भी लक्षण का अनुभव कर रहे हैं, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना जरूरी है।
  • चिकित्सीय स्थितियां: कीटो डाइट के कुछ दुर्लभ और गंभीर दुष्प्रभाव भी हो सकते हैं। इनमें किडनी की पथरी, पैंक्रियाटाइटिस और कोलेस्ट्रॉल का उच्च स्तर शामिल है। अगर आप इनमें से किसी भी दुष्प्रभाव का अनुभव करते हैं, तो तुरंत अपने डॉक्टर से बात करें।

निष्कर्ष – Conclusion In Hindi

कीटो डाइट एक उच्च वसा और कम कार्बोहाइड्रेट वाला डाइट है, जिसे कई स्वास्थ्य संबंधी फायदे प्रदान करने के लिए प्रभावी दिखाया गया है। अगर आप अपने संपूर्ण स्वास्थ्य में सुधार करना या वजन घटाना चाहते हैं, तो कीटो डाइट आपके लिए एक अच्छा विकल्प हो सकती है। इस ब्लॉग पोस्ट में आपको कीटो डाइट शुरू करने के लिए जरूरी सभी जानकारी प्रदान की गई है। ब्लॉग में कौन से खाद्य पदार्थ खाएं, किन खाद्य पदार्थओं से बचें, डाइट का पालन कैसे करें और इससे जुड़े कुछ संभावित जोखिम, दुष्प्रभाव जैसे जरूरी विषय शामिल हैं। इस प्रकार सावधानी से योजना का पालन करके आपको कीटो डाइट से कई स्वास्थ्य संबंधी फायदे प्राप्त हो सकते हैं।

पोषण और फिटनेस पर ज्यादा जानकारी के लिए फिटमंत्रा से संपर्क करें। आप हमारे ऑनलाइन पोषण परामर्श के जरिए अनुभवी पोषण विशेषज्ञों से भी संपर्क कर सकते हैं। वह प्रक्रिया के माध्यम से आपका मार्गदर्शन और आपके फिटनेस लक्ष्यों को प्राप्त करने में आपकी मदद करते हैं। आप हमारे वजन घटाने या वजन बढ़ाने के कार्यक्रम से आप अपना बेहतर वजन प्राप्त कर सकते हैं। हमारे बारे में ज्यादा जानने के लिए एंड्रॉइड पर हमारा फिटनेस ऐप भी डाउनलोड करें।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *